इत्यादि और आदि में क्या अंतर है? इत्यादि और आदि में अंतर

Ityadi Aur Aadi mein antar
इत्यादि संस्कृत के इति और आदि से मिल कर बना है । इति माने अंत और आदि का अर्थ आरम्भ होता है । इसलिए इत्यादि का अर्थ समस्त हो गया जैसे A से Z कहते हैं । आदि इसका छोटा रूप है जो ज्यादा प्रचलित है।

डॉ. वासुदेवनंदन प्रसाद की पुस्तक आधुनिक हिन्दी व्याकरण और रचना में इत्यादि और आदि का प्रयोग बताया गया है , जिसमें एक या दो उदाहरणों के बाद आदि का प्रयोग व इससे ज्यादा उदाहरणों के बाद इत्यादि का प्रयोग करने को कहा गया है । पर अब आदि शब्द छोटा होने से सब जगह प्रयोग होने लगा है ।
  • इत्यादि का मतलब है etcetera, and so on, and so forth
  • उर्दू में इसे वगैरह कहते हैं
आदि के दो अर्थ होते हैं-
  • एक है, इत्यादि, और दूसरा है प्रारंभिक, शुरुआती, प्राचीन काल से, पूर्वकालीन

संबन्धित अन्तर

  1. हस्तांतरण और स्थानांतरण में अंतर
  2. निदेशक और निर्देशक में अंतर
  3. आमंत्रण और निमंत्रण में अंतर
  4. वाॅरंटी और गाॅरंटी में अंतर

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ